! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

576 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 1322550

सूजी हुई आँखें-कहानी

Posted On: 14 Apr, 2017 Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

”…बहू अगर चाहती है तो बेशक तुम अलग घर ले लो ..लेकिन याद रखना एक दिन तुम्हें मेरे पास वापस आना ही होगा .” माँ ने गंभीर स्वर में अपना निर्णय सुना दिया . सच कहूँ तो मेरी माँ से दूर जाकर रहने की रत्ती भर भी इच्छा नहीं थी लेकिन अनुभा के जिद करने के कारण मैंने यही निर्णय लिया कि ” अलग ही रहा जाये …कम से कम ऑफिस से जब शाम को थका हुआ घर वापस आऊंगा तब अनुभा की सूजी हुई आँखें तो नहीं होगी .अभी दो साल ही तो हुए थे हमारे विवाह को .माँ न जाने क्या-क्या कहती है अनुभा को दिनभर में कि मेरे पीछे वो रोती ही रहती है .यद्यपि अनुभा ने माँ कही गयी कोई बात मुझे आज तक नहीं बताई लेकिन हमेशा यही कहती ..अगर अलग घर ले लो तो मैं भी कुछ दिन और जी लूंगी .” ये सब सुनकर मैं दिल ही दिल में डर जाता कि कहीं तनाव न झेल पाने के कारण अनुभा गलत कदम न उठा ले .माँ के आज्ञा देने के बाद शहर में ही एक फ्लैट ले लिया और मैं माँ को पुश्तैनी घर में अकेला छोड़ अनुभा के साथ उस फ्लैट में शिफ्ट कर गया .ये एक इत्तफाक ही था कि उस फ्लैट में सैटल होने के तीन दिन बाद ही हमें पता चला कि मैं पिता व् अनुभा माँ बनने वाली है .मैं चाहता था कि माँ को बता आऊं लेकिन कदम रूक गए …न जाने क्यों ऐसा लगा कि माँ को ख़ुशी नहीं होगी .हालाँकि मेरी और अनुभा की शादी माँ की मर्ज़ी से ही हुई थी लेकिन माँ दहेज़ में और भी बहुत कुछ चाहती थी जो उन्हें नहीं मिल पाया और इसका हिसाब उन्होंने अनुभा को तानें दे दे कर वसूलना चाहा .कभी कभी सोचता हूँ कि औरत की सबसे बड़ी दुश्मन औरत ही है क्या जो उसे बहू के रूप में तड़पाती है और यहाँ तक कि उसे जलाकर मारने में भी पुरुषों से पीछे नहीं रहती .पिता जी जीवित होते तो माँ की शिकायत उनसे कर सकता था पर वो तो मेरे विवाह से पूर्व ही स्वर्ग सिधार गए थे .खैर छोडो अब मुझे अनुभा का विशेष ध्यान रखना होगा .
कुछ दिन बीते ही थे कि एक दिन जब मैं ऑफिस से लौटकर आया तो अनुभा के मुंह से यह सुनकर कि ” कभी माँ से भी मिल आया कीजिये .” मैं अचंभित रह गया .आखिर जिसके साथ रहने से अनुभा की ज़िंदगी कम होती थी आज उसी की चिंता हो आयी .मैंने ” मिल आऊंगा ” का वादा किया और कॉफी बनाकर लाने का अनुभा से आग्रह किया .अनुभा की माँ से मिल आने की बात पर आश्चर्य तो बहुत हुआ ,फिर ये सोचकर चुप हो गया कि मैं पुरुष स्त्रियों की मनोवृत्ति को क्या समझूँ !”दो दिन बाद रविवार को नाश्ते के समय अनुभा ने जब मुझसे ये कहा कि ”चलो आज माँ से मिल आये .” तब मैं उससे पूछे बिना न रह सका -” एक बात बताओगी अन्नू जब उस घर में एक साथ रहते थे तब तो माँ का चेहरा तक नहीं देखना चाहती थी लेकिन ….पिछले कुछ दिनों से देख रहा हूँ माँ से मिलने की बड़ी इच्छा हो रही है तुम्हारी !” अनुभा कुछ गंभीर होती हुई बोली -” जानते हो जब मुझे पता चला कि मैं माँ बनने वाली हूँ तो मेरा मन करा कि सबसे पहले माँ को बताकर आये …फिर मैंने भी यही सोचा कि जिसने मुझे इतने कष्ट दिए क्या उसके प्रति मैं विनम्र बन जाऊं ? ..लेकिन एक बात बताइये क्या इस ख़ुशी पर माँ का हक़ नहीं है ?” अनुभा के इस जवाब ने मुझे लगभग चुप्पी साधने पर मजबूर कर दिया लेकिन मैं चाहता कि गर्भवती अनुभा को किसी भी प्रकार का कष्ट न पहुंचे अतः मैंने अनुभा को इस बात के लिए राज़ी कर लिया कि मैं अकेला ही जाऊंगा और यदि माँ ने अनुभा से मिलने की इच्छा ज़ाहिर की तब मैं अनुभा को भी किसी दिन माँ से मिलवा लाऊंगा .वादे के अनुसार मैं माँ से मिलने जब घर पहुंचा तो माँ मुझे गले लगाकर रो पड़ी और मैंने उसे ये खुशखबरी सुनाई कि वो दादी बनने वाली है तो फ़ौरन बोली -” बहू को साथ ले आता तो कोई ज्यादा तेल खर्च हो जाता तेरी गाड़ी का ! ..अच्छा ऐसा कर ये रख सोने का कंगन ….मेरी ओर से बहू तो दे देना .” मैं फिर विस्मय में पड़ गया कि जो माँ तरह-तरह के ताने देकर बहू को पल भर भी चैन की साँस न लेने देती थी वो आज कैसे उसकी शुभकांक्षिणी हो गयी ? मैंने कंगन अपनी पेंट की जेब में रखा और माँ से ” फिर आऊंगा” कहकर घर से निकल लिया .अनुभा माँ का आशीर्वाद पाकर अत्यधिक प्रसन्न हुई .अब मुझे लग रहा थी कि मैंने ही बहुत स्नेह करने वाली सास-बहू को एक दूसरे से दूर कर रखा है अन्यथा इनका प्रेम तो अटूट है .
ऐसे ही एक दिन सुबह से ही प्रोग्राम था मेरा व् अनुभा का माँ से मिलने जाने का .मैंने ऑफिस का काम जल्दी निपटाया और ठीक चार बजे घर पहुँच गया .दो बार डोर बैल बजायी पर अनुभा खोलेने ही नहीं आयी .मन में अनेक शंकाएं जन्म लेने लगी …न जाने अनुभा क्यों इतनी देर कर रही है ! रोज़ तो डोर पर ही खड़ी हो जाती है मेरे इंतज़ार में पर डोर खुलते ही मैं हक्का-बक्का रह गया क्योंकि द्वार अनुभा ने नहीं माँ ने खोला .” माँ तुम यहाँ ?” मेरे मुंह से अनायास ही ये निकल गया .माँ ने प्रश्न के उत्तर में एक और ही प्रश्न कर डाला -” क्यों मैं नहीं आ सकती यहाँ ?’ मैं क्या जवाब देता , मैंने झुककर माँ के चरण-स्पर्श किये और कपडे बदलने अंदर बैडरूम में चला गया . कपडे बदलकर लौटा तो माँ और अनुभा को एक साथ बैठकर बातें करते देखकर मुस्कुरा दिया .माँ अनुभा को अनेक सलाहें दे रही थी और अनुभा एक आज्ञाकारी बहू के रूप में सहमति में सिर हिलाये जा रही थी .माँ जब चलने को हुई तो मुझसे ज्यादा अनुभा ने आग्रह किया माँ से रुकने का .माँ ने पुनः आने का आश्वासन दिया .अनुभा माँ को मेरे साथ बाहर तक छोड़ने गयी .माँ को विदा कर जब मैं और अनुभा वापस ड्रांइग रूम में आये तो अनुभा मुझसे बोली -” सुनिए क्यों न हम वापस घर चले ? मैं ये सुनकर काफी भड़क गया -” अब वापस चले !!!अन्नू ये सब क्या है ? कभी माँ तुम्हारी शत्रु थी और अब तुम फिर वही जाना चाहती हो !!!.” अनुभा मुझे ऐसे क्रोध में देखकर सहम सी गयी और धीमे स्वर में बोली -” नाराज़ क्यों होते हो …यदि माँ आज आकर मुझसे विनती न करती तो क्या मैं ऐसी बात करती ? आप नहीं जानते माँ कितनी परेशानी में रहती हैं ! आप क्या जाने एक औरत के ह्रदय की अवस्था को …पति तो स्वर्ग सिधार गए और बेटा दूर जाकर ..” अनुभा ये कहकर अंदर चली गयी और मुझे इस अपराधबोध में डाल गयी कि मैं कितनी नालायक एकलौती संतान हूँ जो अपनी माँ का ध्यान नहीं रखता !” खैर मैंने निश्चय किया वापस लौटने का .
माँ के पास लौटकर आये अब आठ माह हो चुके थे .अनुभा ने अक्टूबर माह की बारह तारीख को एक फूल सी बिटिया को जन्म दिया . मैं हर्ष से खिल उठा और माँ ये सुनकर कि ” पोती हुई है ” मुरझा गयी .
अब पुनः वही सिलसिला शुरू हो गया है कि जब मैं ऑफिस से लौटता हूँ तो अनुभा की आँखें वैसे ही सूजी हुई मिलती हैं .

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
April 30, 2017

कभी कभी सोचता हूँ कि औरत की सबसे बड़ी दुश्मन औरत ही है – उक्ति को चरितार्थ करती हुई कहानी!

    DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
    April 30, 2017

    कहानी के मर्म को समझने हेतु हार्दिक आभार स्वीकार करें

Shobha के द्वारा
April 20, 2017

प्रिय शिखा बहुत सुंदर ढंग से लिखी कहानी मन को विभोर करती है

    DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
    April 21, 2017

    शोभा जी नमस्कार.. आपकी टिप्पणी सदैव ही और अधिक बेहतर लेखन के लिए प्रेरित करता है. हार्दिक आभार

sadguruji के द्वारा
April 20, 2017

आदरणीया शिखा कौशिक ‘नूतन’ जी ! अच्छी कहानी की प्रस्तुति के लिए अभिन्दन और बधाई ! दरअसल महिलाएं ही स्त्री जाति की सबसे बड़ी विरोधी भी हैं !

    DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
    April 20, 2017

    आदरणीय सदगुरू जी हार्दिक धन्यवाद.


topic of the week



latest from jagran