! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

572 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 1298083

'जय पताका ले चढ़ा '

Posted On: 7 Dec, 2016 Celebrity Writer,Hindi Sahitya में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

त्याग कर सारी निराशा
दृढ़ मनोबल से बढ़ा,
तब पराजय के शिखर पर
जय पताका ले चढ़ा !
………………
थी कमी प्रयास में
आधे – अधूरे थे सभी,
एक लक्ष्य के प्रति
आस्था न थी कभी,
अपनी ही कमजोरियों से
सख्त होकर मैं लड़ा !
तब पराजय के शिखर पर
जय पताका ले चढ़ा !
……………
असफल होकर बहाये
जो भी अश्रु आज तक,
थी मेरी ही मूर्खता
आरंभ से ले अंत तक,
असफलता से सबक ले
पाठ जय का जब पढ़ा !
तब पराजय के शिखर पर
जय पताका ले चढ़ा !
……………………..
है असंभव कुछ नहीं
सही दिशा में यत्न हो,
हो अगर निश्चय हमारा
कंकणें भी रत्न हो ,
आग की लपटों में तपकर
जो बना पक्का घड़ा !
तब पराजय के शिखर पर
जय पताका ले चढ़ा !!

शिखा कौशिक नूतन



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

December 7, 2016

बहुत प्रेरक अभिव्यक्ति.बधाई


topic of the week



latest from jagran