! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

578 Posts

1451 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 1124083

और आदमी फुटपाथ पर .

Posted On: 19 Dec, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

धिक्कार इस जनतंत्र पर !

है विषमता ही विषमता
जाती जिधर भी है नज़र ,
कारे खड़ी गैरेज में हैं
और आदमी फुटपाथ पर .

……………………………..

एक तरफ तो सड़ रहे
अन्न के भंडार हैं ,
दूसरी तरफ रहा
भूख से इंसान मर
है विषमता ही विषमता

जाती जिधर भी है नज़र !

………………………..

निर्धन कुमारी ढकती तन
चीथड़ों को जोड़कर
सम्पन्न बाला उघाडती
कभी परदे पर कभी रैंप पर
है विषमता ही विषमता

जाती जिधर भी है नज़र !

………………………….

मंदिरों में चढ़ रहे
दूध रुपये मेवे फल ,
भूख से विकल मानव
भीख मांगे सडको पर
है विषमता ही विषमता

जाती जिधर भी है नज़र !

……………………………..

कोठियों में रह रहे
जनता के सेवक ठाठ से ,
जनता के सिर पर छत नहीं
धिक्कार इस जनतंत्र पर !

शिखा कौशिक ”नूतन”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sadguruji के द्वारा
December 29, 2015

एक तरफ तो सड़ रहे अन्न के भंडार हैं , दूसरी तरफ रहा भूख से इंसान मर है विषमता ही विषमता जाती जिधर भी है नज़र ! आदरणीया डॉक्टर शिखा कौशिक जी ! बहुत सुन्दर और विचारणीय कविता ! नववर्ष की हार्दिक बधाई !

vaidya surenderpal के द्वारा
December 19, 2015

बहुत सुन्दर और सार्थक रचना।


topic of the week



latest from jagran