! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

557 Posts

1411 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 962400

बलात्कार तब तक नहीं रुकेंगें

Posted On: 29 Jul, 2015 Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा
स्त्री को जिम्मेदार ठहराना

और

पुरुष का अपने ही कुकृत्य पर

ठहाका लगाना !

बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा

धर्म गुरु  द्वारा
जनता को
भटकाना
और नेताओं का
राजनीति चमकाना .


बलात्कार तब तक नहीं रुक सकते
जब तक नहीं रुकेगा

पुत्री  पर मर्यादा के
नाम पर प्रतिबन्ध लगाना
और पुत्रों का  संस्कारों से
परिचय न करवाना .


शिखा कौशिक ‘नूतन”



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
July 31, 2015

पूर्णत: सही लिखा है आपने …पूरा समर्थन है आपके विचार का!

Madan Mohan saxena के द्वारा
July 30, 2015

बहुत सुन्दर , सोचने पर मजबूर करती रचना के बधाई कौशिक जी

amitshashwat के द्वारा
July 29, 2015

सहज शबद ,ठोस विचार ,मूल बिनदू  - विवेक हो उजियार । डा.शिखा जी आपके साहसी लेखन हेतु बधाई ।

July 29, 2015

पूरी तरह से सहमत हूँ आपसे .सार्थक अभिव्यक्ति आज ही क्या सदैव के परिप्रेक्षय में .


topic of the week



latest from jagran