! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

573 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 912750

वीरोगति रूप मृत्यु का कहलाता सुन्दरतम !

Posted On: 21 Jun, 2015 Celebrity Writer,Hindi Sahitya में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

घाव  लगें जितनें भी तन पर कहलाते आभूषण ,

वीर का लक्ष्य  करो शीघ्र ही शत्रु -दल  का मर्दन ,

अडिग -अटल हो करते रहते युद्ध -धर्म का पालन ,

समर -भूमि से वीर नहीं करते हैं कभी पलायन !

……………………………………………………….

युद्ध सदा लड़ते हैं योद्धा बुद्धि -बाहु  बल से ,

कापुरुषों की भाँति न लड़ते हैं माया -छल से ,

शीश कटे तो कटे किन्तु पल भर को न झुकता है ,

आज अभी लेते निर्णय क्या करना उनको कल से !

राम-वाण के आगे कैसे टिक सकता है रावण ?

समर -भूमि से वीर नहीं करते हैं कभी पलायन !

…………………………………………………………….

सिया -हरण का पाप करे जब रावण इस धरती पर ,

सज्जन ,साधु ,संत सभी रह जाते हैं पछताकर ,

उस क्षण योद्धा लेता प्रण अपने हाथ उठाकर ,

फन कुचलूँगा हर पापी का कहता वक्ष फुलाकर ,

सुन ललकार राम की हिलता लंका का सिंहासन !

समर -भूमि से वीर नहीं करते हैं कभी पलायन !

………………………………………………………..

गर्जन-तर्जन मार-काट मचता है हा-हा कार ,

कटती गर्दन -हस्त कटें बहती रक्त की धार ,

रणभूमि का करते योद्धा ऐसे ही श्रृंगार ,

गिर-गिर उठकर पुनः-पुनः करते हैं वार-प्रहार ,

वीरोगति रूप मृत्यु का कहलाता सुन्दरतम !

समर -भूमि से वीर नहीं करते हैं कभी पलायन !

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
July 4, 2015

अत्यंत प्रेरणास्पद कविता ।


topic of the week



latest from jagran