! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

556 Posts

1411 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 910041

अपनी सिया का साथ न दे पाया किन्तु राम

Posted On: 17 Jun, 2015 Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Image result for jai shri ram images

भूतल  में  समाई  सिया  उर कर रहा धिक्कार

पितृ सत्ता के समक्ष लो  राम गया  हार   !


देवी अहिल्या को लौटाया नारी  का सम्मान

अपनी  सिया का साथ न दे  पाया किन्तु  राम

है वज्र सम ह्रदय मेरा करता हूँ मैं स्वीकार !

पितृ सत्ता के समक्ष  ……..


वध किया  अनाचारी का बालि हो या  रावण

नारी को मिले मान बस था यही कारण

पर दिला पाया कहाँ सीता को ये अधिकार !

पितृ सत्ता के समक्ष …….

नारी नर समान है ;  वस्तु नहीं नारी

एक पत्नी व्रत लिया इसीलिए  भारी

पर तोड़ नहीं पाया पितृ सत्ता की दीवार !

पितृ सत्ता के समक्ष …..


अग्नि-परीक्षा सीता की अपराध था घनघोर

अपवाद न उठे कोई इस बात पर था जोर

फिर  भी  लगे सिया पर आरोप निराधार !

पितृ सत्ता के समक्ष लो राम गया हार !!


शिखा कौशिक



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jitendra Mathur के द्वारा
July 4, 2015

संसार की दृष्टि में महान बनने की कामना संभवतः राम के न्याय पर भारी पड़ गई । सीता के साथ अन्याय करके वे एक ऐसा अनुचित उदाहरण संसार के समक्ष रख गए जिसने युगों-युगों तक कथित शुचिता के नाम पर स्त्रियों के साथ अन्याय किए जाने का आधार बना दिया । आपने जो कहा है, बिलकुल ठीक कहा है ।


topic of the week



latest from jagran