! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

578 Posts

1451 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 883141

खट्टी -मीठी यादें !

Posted On: 13 May, 2015 Celebrity Writer,Hindi Sahitya में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

खट्टी -मीठी यादें !

टूटे  फूटे  वादे    ,कभी     ताने  और     फरियादें     ,

इनसे   ही   बन   जाती   हैं   खट्टी मीठी यादें .

फूलों   के   जैसे   हँसना   ,आँखों   से   मोती   झरना   ,

मरते   मरते   जीना   ,कभी    जीते   जीते   मरना   ,

ऐसे   जुड़ते   जाते   किस्से   ये   सीधे   सादे   .

इनसे   ही   बन   जाती   हैं   खट्टी मीठी यादें .

***********************************

गले लगाकर मिलना ,लड़ना और झगड़ना ,

ममता की बरसातें और कभी क्रोध में तपना ,

फिर भी जुड़ते जाते टूटे रिश्तों के धागे .

इनसे ही बन जाती हैं खट्टी मीठी यादें .

*********************************

कभी जेठ की गर्मी ,सावन की कभी फुहारें ,

कभी अमावस की रजनी ,कभी पूनम के उजियारे ,

कुदरत रोज बजाती नए सुरों में बाजें .

इनसे ही बन  जाती हैं खट्टी मीठी यादें .

*********************************

shikha kaushik ‘nutan’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran