! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

572 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 872986

किसान रैली ने हिला दी मोदी सरकार

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पिछले लोकसभा चुनाव [मई २०१४] में बीजेपी के हाथों भारी पराजय की चोट खाई कॉंग्रेस पार्टी १९ अप्रैल २०१५ को दिल्ली में हुई ”किसान -खेतिहर मजदूर रैली ” में पहली बार अपने पुराने रंग में दिखी . सर्वाधिक वर्षों तक भारतीय जनता की प्रिय पार्टी रही कॉंग्रेस और इसके जोशीले -गरिमामय नेतृत्व ने इस रैली के माध्यम से यह साबित कर दिया कि यदि कोई पार्टी जनता से ”अच्छे दिनों का ” झूठा वादा कर , उनसे बहुमत पाकर , सत्ता मद में इतना डूब जाये कि बेमौसम बरसात के कारण देश के अन्न-दाता की दुर्दशा को देखकर भी नज़रअंदाज़ करने लगे और किसानों की ज़मीनों को पूजीपतियों को सौपने की साज़िश रचने लगे तब किसानों की सच्ची हितैषी पार्टी कॉंग्रेस अपने दम पर ऐसी मदांध पार्टी को न केवल ललकारेगी बल्कि एक-एक जिम्मेदार शख्स को सत्ता के गलियारों से घसीट कर जनता के बीच लाकर खड़ा कर देगी .
एक भी किसान आज अगर अपनी फसले बर्बाद होने पर आत्म-हत्या कर रहा है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी सरकार को लेनी होगी .ये आत्म-हत्या नहीं बल्कि सरकार की लापरवाही के कारण उसके द्वारा की जा रही हत्या है .ऐसे में सरकार को चेताने और भूमि-अधिग्रहण अध्यादेश की किसान विरोधी बातों को किसानों तक पहुँचाने के लिए आयोजित ”किसान रैली ” ने मोदी सरकार को हिला डाला , तभी तो श्री मोदी अपनी खिसियाहट छिपाने के लिए यह कहते नज़र आये ” कि हम किसानों की ज़मीने अम्बानी जैसों के लिए नहीं ले रहे ” तो क्या वे ”अडानी जैसों ” के लिए ले रहे हैं ?
कॉंग्रेस ने निराश-हताश किसानों के दिलों में फिर से न्याय -प्राप्ति की अलख जगाई है .अब यह कॉंग्रेस पार्टी व् इसके मजबूत नेतृत्व की जिम्मेदारी है कि वे किसानों की लड़ाई को मंज़िल तक पहुंचाए .सोनिया जी व् राहुल जी के नेतृत्व में ऐसा ही होगा -ऐसी हर भारतीय की शुभकामना है -
खुले हाकिम की मक्कारी ,
गिरे साज़िश की दीवारें !
हमारे मुल्क की किस्मत
हमारे ”हाथ ” में होगी !

जय हिन्द !जय भारत !

डॉ शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

brijeshprasad के द्वारा
April 22, 2015

डाक्टर साहिबा जी, आप के कांग्रेस प्रेम से हम अवगत है। प्रबुद्ध वर्ग से में मोदी जी की समालोचना की उम्मीद रखता हूँ मात्र आलोचना की ही नहीं। हमें शायद कांग्रेस या भ ज प का अंध समर्थक होने से ज्यादा राष्ट्र हित समर्थक होना चाहिए, इस में ही सभी का हित है।

rameshagarwal के द्वारा
April 22, 2015

जय श्री राम कांग्रेस की किशन रैली से उनके समर्थक और मोदी विरोधी सेकुलारिस्ट्स खुश हो और हताश और निराश लो मोदीजी की सरकार पर पूँजीपतियो के हाथ बिकने का सवाल उठा रहे हो परन्तु कांग्रेस का कला इतिहास और उनके नेताओ के काले कारनामे किसी से छिपे नहीं जल्दी सब सामने आ जायेगा,५८ दिनों के बनवास के बाद राहुल को कुछ तो बकवास करनी है.

Shobha के द्वारा
April 22, 2015

प्रिय शिखा जी किसान रैली ने यदि मोदी सरकार हिला दी दूसरी अलग टोपी और अलग पगड़ी पहन कर यह भी बता दिया कौन कितनी बस भर कर लाया कौन राहुल जी का ख़ैर ख्वा हैं डॉ शोभा

April 21, 2015

आपसे पूरी तरह से सहमत और कांग्रेस के सुखद भविष्य के प्रति आशावान भी .


topic of the week



latest from jagran