! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

576 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 856504

''मुबारकबाद देते हैं !''

Posted On: 25 Feb, 2015 Others,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

हमारी जीत को जो हार बना मात देते हैं !
वही हंसकर गले मिलकर मुबारकबाद देते हैं !
………………………………………………………..
बड़े हमदर्द बनकर दे रहे गम में जो तसल्ली ,
वही तो साज़िशें रच क़त्ल को अंजाम देते हैं !
……………………………………………………….
मेरी बदनामियों पर हो खफा दुनिया से भिड़ जाते ,
मुझे बदनाम कर ये इस हुनर से काम लेते हैं !
…………………………………………………………..
नहीं हममें अक़्ल जो जान लें वे दोस्त या दुश्मन ,
मगर हम बेअक़्ल शातिर सभी पहचान लेते हैं !
………………………………………………………..
बड़े मासूम हैं ; नादान हैं ; क्या कहें ‘नूतन ‘
जो हमको क़त्ल कर कातिल का हमें नाम देते हैं !

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

February 25, 2015

बहुत खूब .वाह वाह


topic of the week



latest from jagran