! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

570 Posts

1437 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 807589

दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत !

Posted On: 24 Nov, 2014 कविता,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Image result for FREE IMAGES OF WOMAN IN PARDAImage result for FREE IMAGES OF WOMAN IN PARDA

डराई जाती है औरत जन्म से मौत तक ,

दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत !

…………………………………..

है दुनिया मर्दों की और तू कमजोर है ,

तेरी देह के शिकारी घूमते हर ओर हैं ,

यूँ तो महफूज़ नहीं चारदीवारी में भी तू ,

हुई आज़ाद तो फिर तेरी नहीं खैर है ,

इसी दहशत में नहीं लांघती औरत चौखट !

दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत !

…………………………………………………………….

झेला वनवास सिया ने लांघकर रेखा ,

हुआ अन्याय मगर मौन हो सबने देखा ,

नहीं मतलब किसी को पाक थी नापाक थी ,

भुगतती मर्द के दुष्कर्मों का औरत लेखा ,

कभी जलकर कभी कटकर बचाई है अस्मत !

दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत !

……………………………………………..

कटी जुबान अगर अपना हक़ मांग लिया ,

सवाल पूछने को बेहयाई नाम दिया ,

मिला के आँख जो कर ली खिलाफत एक दिन ,

‘चढ़ा दो फांसी पे ‘मर्द ने फरमान दिया ,

मुकद्दर बन गया औरत का है बुर्क़ा-घूंघट  !

दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत !

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
November 30, 2014

बात सच्ची और स्पष्ट है, नारी के भाग में ही कष्ट है.

sadguruji के द्वारा
November 27, 2014

कटी जुबान अगर अपना हक़ मांग लिया , सवाल पूछने को बेहयाई नाम दिया , मिला के आँख जो कर ली खिलाफत एक दिन , ‘चढ़ा दो फांसी पे ‘मर्द ने फरमान दिया , मुकद्दर बन गया औरत का है बुर्क़ा-घूंघट ! दाग दामन पे न लग जाये तेरे औरत ! सुन्दर और शिक्षाप्रद रचना ! बहुत बहुत बधाई !

Madan Mohan saxena के द्वारा
November 26, 2014

कटु यथार्थ बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको . कभी यहाँ भी पधारें


topic of the week



latest from jagran