! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

576 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 723454

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम !

Posted On: 27 Mar, 2014 कविता,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Interfaith wallpaper

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम ,

मालिक सदा ही रखना बन्दों पे तू करम ,

नेकी के रास्तों पर बढ़ते रहे कदम ,

नफरत मिटा के दिल से भर देना तू रहम !

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम !

……………………………………

सबसे करो मोहब्बत मालिक ने हैं सिखाया ,

एक जैसा हम सभी को मालिक ने है बनाया ,

ना कोई ऊँचा-नीचा ना कोई हिन्दू-मुस्लिम ,

एक ही लहू खुदा ने जिस्मों में है बहाया ,

भूलें न उस खुदा को आओ लें ये कसम !

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम

……………………………………………….

मज़हब का नाम लेकर ना हम किसी को मारें ,

लब पर दुआ अमन की हर पल रहे हमारे ,

दिल न कभी दुखाएं मजबूर आदमी का ,

नज़रे उठा के देखो करता है ‘वो’ इशारे ,

ज़ख्मों पे हम किसी के आओ लगाएं मरहम  !

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम !

…………………………………………………….

करनी हमें हिफाज़त महबूब इस वतन की ,

होली जला दें आओ फिरकापरस्ती की ,

हो ईद या दीवाली मिलकर सभी मनाएं ,

रब की यही है मर्ज़ी फूलों से मुस्कुराएं ,

इंसानियत निभाएं जब तक हो दम में दम !

तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम !

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

sanjay kumar garg के द्वारा
April 1, 2014

“इंसानियत निभाएं जब तक हो दम में दम ! तेरा ही आसरा है , तेरी पनाह में हम !” सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीय शिखा जी!


topic of the week



latest from jagran