! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

579 Posts

1452 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 718930

संघर्षों से निखरेगा राहुल जी का व्यक्तित्व

Posted On: 18 Mar, 2014 Politics,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आने वाले लोक सभा २०१४ के चुनाव परिणाम जो भी हो पर राहुल गांधी जी ने यह साबित कर दिया है कि यदि इस समय वास्तव में कोई नेता सच्चे ह्रदय से राजनैतिक भ्रष्ट व्यवस्था को सुधारने के लिए दृढ़-संकल्प है तो वे हैं केवल -राहुल गांधी जी . उन्होंने जनता के साथ वार्तालाप का नया मार्ग चुना और माना कि पहले केवल नेता आते थे और भाषण देकर चले जाते थे पर अब ऐसा नहीं है .चुनाव-घोषणा पत्र में वही मुद्दे रखे जायेंगें जिन पर जनता मुहर लगाएगी . राहुल जी ने दस साल के राजनैतिक कैरियर में अनुभव से सीखा और अपने को जनता की उम्मीदों के अनुसार ढाला पर इस प्रक्रिया में मीडिया ने उनकी निंदा करने का मार्ग अपनाया जबकि होना तो यह चाहिए था कि मीडिया उनकी प्रशंसा करता .जनता +नेता+मीडिया =हम सबको मिलकर ही इस देश की समस्याओं के उपाय ढूंढने हैं .व्यक्तिगत पसंद को सार्वजानिक पसंद के रूप में थोपने के लिए ये तो जरूरी नहीं कि किसी उभरते हुए राष्ट्रीय व्यक्तित्व को नीचा गिराने की कोशिश की जाये पर मीडिया ने यही किया .राहुल जी की गरिमा को गिराने का कुत्सित प्रयास किया गया .एक झूठे रेप के मामले को बेवजह उछाला गया , राहुल जी को युवराज ,बुद्धू ,पप्पू और भी न जाने क्या-क्या अपमानजनक संज्ञाओं से विभूषित किया गया . मीडिया के अलावा विपक्षी नेताओं ने भी राहुल जी के प्रति अभद्र भाषा का खुलकर प्रयोग किया पर ये राहुल जी की शालीनता ही है कि उन्होंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं तक को अभद्र-भाषा के प्रयोग से रोका .यही है हमारे राष्ट्रीय -व्यक्तित्व की पहचान . महिलाओं के एक समूह से वार्तालाप के दौरान वे कहते हैं ”मैं आपसे समर्थन मांगने नहीं आया ..मैं आपसे वोट मांगने भी नहीं ..मैं चाहता हूँ आप खुद इतनी मजबूत बनें कि कोई आपका शोषण न कर पाये .” यही है वो सोच जो हम आज के अपने राष्ट्रीय नेता में चाहते हैं .निश्चित रूप से संघर्षो से राहुल जी के व्यक्तित्व में और निखार आएगा .जो हमारे देश के लिए शुभ-संकेत है .
जागरण जंक्शन में १९ मार्च २०१४ को प्रकाशित

imageview

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

ADVOCATE VISHAL PANDIT के द्वारा
March 19, 2014

क्या बात करती है शिखा जी आप राहुल गांधी ५० साल का दूध पीटा बच्चा है और बच्चा ही रहेगा उसे कभी तमीज नहीं आएगी…………..पर लिखा बहुत बढ़िया. काश आप नरेंद्र मोदी जी के बारे में कुछ अच्छा लिखती तो मुझे बहुत अच्छा लगता. but we are in democracy and everyone have their own opinion………… good writeen keep it up

March 18, 2014

sahi likha hai aapne ek rashtriy vyaktitv ke sambandh me .rahul gandhi me desh ke pradhanmantri hone kee sabhi yogyatayen hain .thanks a lot .


topic of the week



latest from jagran