! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

562 Posts

1427 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 714672

''दागी कहलाने लगे आज कल रसूख़ वाले ''

Posted On: 9 Mar, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Tired Man Stock Photo
जब से जागा हूँ आज तक सोया ही नहीं !
कैसे कोई ख्वाब देखूं आज तक सोया ही नहीं !
……………………………………………
ग़मों ने साथ निभाया नहीं छोड़ा तन्हा ,
है ऐसा कौन इंसां आज तक रोया ही नहीं !
………………………………………………
उसे मालूम क्या दर्द किसे कहते हैं ,
जिसने अज़ीज़ कोई आज तक खोया ही नहीं !
……………………………………………..
दागी कहलाने लगे आज कल रसूख़ वाले ,
दाग इस चक्कर में आज तक धोया ही नहीं !
………………………………………………..
बनाकर मुंह न यूँ बैठो बबूल देख ‘नूतन’ ,
लगेगा आम कैसे आज तक बोया ही नहीं !

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

March 9, 2014

बहुत सुन्दर /सार्थक अभिव्यक्ति .बधाई


topic of the week



latest from jagran