! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

557 Posts

1411 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 691561

कविता-क्षण है बंधु वीरोचित ये संघर्ष प्रलय का ![contest ]

Posted On: 21 Jan, 2014 Contest,Celebrity Writer में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रश्न इस समय नहीं पराजय -जय का ,
नहीं हास व् नहीं शोक का न ही मृत्यु -भय का ,
सतत चुनौती को स्वीकारे ऐसे वज्र ह्रदय का ,
क्षण है बंधु वीरोचित ये संघर्ष प्रलय का !
…………………………………………………….
शत्रु-दल की नींव हिला दे हम वीरों का गर्जन ,
बाहु-बुद्धि-बल से करना शत्रु का है मर्दन ,
निज उर में उत्साह की लहरें करती क्षण-क्षण नर्तन ,
नहीं हटेगा एक पग पीछे कट जानें दो गर्दन !
प्राण-आहूति देते जाना लक्ष्य आज सभी का !
क्षण है बंधु वीरोचित ये संघर्ष प्रलय का !
………………………………………………….
नहीं झुकेगा शीश हमारा कट कर भले गिरेगा ,
वीर कभी घुटने न टेके लड़ते हुए मरेगा ,
वक्षस्थल पर आगे बढ़कर शत्रु-वार सहेगा ,
रक्त बहाकर रण-भूमि की सूनी माँग भरेगा !
नव -घावों से और उबलता अर्णव इनके बल का !
क्षण है बंधु वीरोचित ये संघर्ष प्रलय का !
…………………………………………..
प्रबल मनोबल इनका मानों जल है आग-पवन है ,
नहीं काटने से कट पाता शक्तिमान सबल है ,
क्या होगा परिणाम नहीं चिंतित वीरों का मन है ,
करना रण-कौशल का उनको क्षण क्षण प्रदर्शन है !
जय-पराजय नहीं सदा संघर्ष मूल जीवन का !
क्षण है बंधु वीरोचित ये संघर्ष प्रलय का !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

January 22, 2014

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .बधाई


topic of the week



latest from jagran