! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

569 Posts

1437 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 678043

हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !-अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण

Posted On: 29 Dec, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

2014 Projection Target Shows Profit And Growth Stock Photo

मलिन वदन ले विदा हो रहा वर्ष एक पल-पल ,
उदित हो रहा मधुर हास मुख लेकर वर्ष-नवल ,
नवप्रभात में त्याग निराशा का जर्जर -आँचल ,
हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !
…………………………………………………….
ना टेकेंगे घुटने अपने अन्यायी के आगे ,
वज्र-ह्रदय कर टकरायेंगे जब तक वो ना भागे ,
कट जाने का ;मिट जाने का भय न मन में व्यापे ,
भाई-भतीजावाद के बंधन आओ मिलकर काटें ,
सत्य-न्याय के पथ पर तत्क्षण जन-जन चले सकल !
हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !
………………………………………………………….
नहीं निवाला मुंह में रखें देख किसी को भूखा ,
सरस बनें ,करुणामय हों ,व्यवहार करें न रूखा ,
देख विपत्ति में किसी जन को अपना हाथ बढ़ाएं ,
मानव हैं तो मानवता का अपना धर्म निभाएं ,
देख परायी आखें-नम हो अपने नयन सजल !
हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !
………………………………………………….
नारी के गौरव की रक्षा घर-बाहर चहुँ ओर ,
ना हर पाये पापी रावण एक भी सीता और ,
नहीं कोख में नन्हीं कलियाँ और कुचलने देंगें ,
फूलों सी बेटी पर हम तेजाब न डालने देंगें ,
अबला से बनवाना है नारी को अति-सबल !
हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !
…………………………………………………………………….
टूट न जाएँ सम्बल अपना चलना संभल-संभल ,
आत्म-निरक्षण करते जाना रखना है संयम ,
नहीं फिसलना ,ना ललचाना ,ना होना विह्वल ,
ना घबराना ,ना इतराना ,ना होना चंचल ,
इच्छा-शक्ति दृढ़ रखना व् हो उत्साह प्रबल !
हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !

शिखा कौशिक ‘नूतन ‘

[

प्रिय पाठकों,


!! सभी चयनित प्रतिभागियों को हार्दिक बधाई !!


नूतन वर्ष का आगमन हो चुका है। उम्मीद है नववर्ष का आरंभ आप सभी के लिए अब तक अच्छा रहा होगा और आगे भी अच्छा रहेगा। जैसा कि हमने वादा किया था इस वर्ष जागरण जंक्शन आपकी रचनात्मकता को प्राथमिकता में लाने का अवसर देकर नववर्ष का एक शुभ आरंभ करने का अवसर आपको प्रदान करेगा। आज उसकी पहली कड़ी में जागरण जंक्शन मंच पर विशेष स्थान पाने वाले ‘अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण’ के पांच विजेताओं के नाम की घोषणा करते हुए अत्यंत हर्ष का अनुभव हो रहा है।


पाठकगण इस तथ्य से सहमत होंगे कि हर किसी का व्यवहार, कार्यपद्धति अलग होती है, अपेक्षाएं अलग होती हैं और वे अपेक्षाएं पूरी किस तरह हों इसके लिए उनका नजरिया भी अलग होता है। इन अपेक्षाओं, कार्यपद्धतियों के परिणाम जो भी हों लेकिन सर्वप्रथम जरूरी होता है प्रयास और उस प्रयास के लिए जरूरी है एक ‘अटल संकल्प’। हमारे ‘अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण’ का उद्देश्य भी आपकी रचनात्मकता को बढ़ावा देने के साथ ही साल की शुरुआत एक अटल संकल्प के साथ करने का प्रेरणास्रोत बनना था। सभी प्रतिभागियों के संकल्प सराहनीय हैं। इनमें से श्रेष्ठतम पांच संकल्पधारियों का चुनाव हमारे संपादक मंडल ने किया है जो निम्नांकित हैं:

यमुना पाठक

yamuna-pathak




रंजना गुप्ता

ranjana-gupta



संतलाल करुण

santalal-karun




अनिल कुमार

anil-kumar




शिखा कौशिक

shikha-kaushik




धन्यवाद

जागरण जंक्शन परिवार



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

anilkumar के द्वारा
January 3, 2014

आदर्णीय शिखा जी , अति सुन्दर काव्यमय संकल्प । विशेषकर यह पंक्तियां -  ना टेकेंगे घुटने अपने अन्यायी के आगे , वज्र-ह्रदय कर टकरायेंगे जब तक वो ना भागे , कट जाने का ;मिट जाने का भय न मन में व्यापे , भाई-भतीजावाद के बंधन आओ मिलकर काटें , सत्य-न्याय के पथ पर तत्क्षण जन-जन चले सकल ! हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल ! आपके संकल्प को विजयेता सम्मान के लिये बधाई , और नव वर्ष की मंगलकामनाएँ ।

sadguruji के द्वारा
January 3, 2014

आदरणीया डॉक्टर शिखा कौशिक ‘नूतन ‘ जी,‘अटल संकल्प ब्लॉग आमंत्रण’ में विजेता बनाने पर बधाई.ये पंक्तियाँ विशेष सन्देश देती हैं- टूट न जाएँ सम्बल अपना चलना संभल-संभल , आत्म-निरक्षण करते जाना रखना है संयम , नहीं फिसलना ,ना ललचाना ,ना होना विह्वल , ना घबराना ,ना इतराना ,ना होना चंचल , इच्छा-शक्ति दृढ़ रखना व् हो उत्साह प्रबल ! हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल !

Santlal Karun के द्वारा
January 2, 2014

आदरणीया शिखा जी, ये पंक्तियाँ मुझे विशेष रूप से अभिभूत कर गईं —  ”नारी के गौरव की रक्षा घर-बाहर चहुँ ओर , ना हर पाये पापी रावण एक भी सीता और , नहीं कोख में नन्हीं कलियाँ और कुचलने देंगें , फूलों सी बेटी पर हम तेजाब न डालने देंगें , अबला से बनवाना है नारी को अति-सबल !” नव वर्ष की मंगल कामनाएँ !

yatindranathchaturvedi के द्वारा
January 2, 2014

मंगल कामनाओं के साथ बधाई आपको

Acharya Vijay Gunjan के द्वारा
January 2, 2014

नव वर्ष के आगमन और बीते साल के दुर्गमन पर अच्छी अभिव्यक्ति ! बधाई !

yatindranathchaturvedi के द्वारा
January 1, 2014

||WISH YOU A VERY HAPPY NEW YEAR-2014||

sanjay kumar garg के द्वारा
January 1, 2014

शिखा जी, नमस्कार, नया वर्ष कि हार्दिक शुभकामनाएं!

yogi sarswat के द्वारा
January 1, 2014

नहीं निवाला मुंह में रखें देख किसी को भूखा , सरस बनें ,करुणामय हों ,व्यवहार करें न रूखा , देख विपत्ति में किसी जन को अपना हाथ बढ़ाएं , मानव हैं तो मानवता का अपना धर्म निभाएं , देख परायी आखें-नम हो अपने नयन सजल ! हर्षोल्लास ह्रदय में भरकर लें संकल्प अटल अति सुन्दर शब्द शिखा कौशिक जी

December 29, 2013

बहुत सुन्दर व् प्रभावशाली अभिव्यक्ति डॉ.शिखा जी .नया साल मुबारक हो आपको .

    DR. SHIKHA KAUSHIK के द्वारा
    December 30, 2013

    धन्यवाद शालिनी जी


topic of the week



latest from jagran