! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

578 Posts

1451 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 625255

नूतन रामायण [भाग-चार (सम्पूर्ण) ]

Posted On: 13 Oct, 2013 Others,कविता,Religious,Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

७९-
कपि पूंछ में आग लगाओ
लंका में आने का
इसको मजा चखाओ !
…………………………………
८०-
देकर क्रूर ये आदेश
हुआ निश्चिन्त
अधम लंकेश !
………………………..
८१-
हनुमत पूंछ में आग लगाईं
”जय श्री राम ”का उच्चारण कर
हनुमत निज शक्ति दिखलाई !
………………………………….
८२-
लंका दहन किये हनुमान
चूड़ामणि सिया से लेकर
किया उन्हें प्रणाम !
…………………………
८३-
लौटे वानर मधुबन आये
विध्वंस मधुबन सुनकर
सुग्रीव अति हर्षाये !
…………………………
८४-
हनुमत सिया सुधि ले आये
किष्किन्धा में पहुँच
प्रभु को समाचार बतलाये !
……………………………..
८५-
चूड़ामणि प्रभु को दिखलाई
सिया स्मृति कर
प्रभु आँखें भर आई !
…………………………
८६
प्रभु करते हनुमान बढाई
ह्रदय लगाया भक्त को
भक्तवत्सल हैं रघुराई !
…………………………….
८७-
लंका में रावण से अनुरोध
करते बहुत विभीषण
सीता को दो वापस भेज !
…………………………..
८८-
रावण से अपमानित होकर
चले विभीषण राम समीप
शरणागत वत्सल हैं रघुबर !
…………………………….
८९-
अर्णव पार विभीषण आये
प्रभु दर्शन कर
फूले नहीं समाये !
……………………….
९०-
प्रभु ने कहकर उन्हें लंकेश
सागर जल से किया वहां
विभीषण का अभिषेक !
……………………………
९१-
सागर तट पर पहुंची सेना
कुशा का आसन बिछा राम ने
शुरू किया धरना देना !
………………………….
९२-
तीन दिवस जब गए बीत
दर्शन न पाकर समुन्द्र के
राम ने प्रत्यंचा दी खींच !
………………………………
९३-
कनक थाल ले प्रकटे अर्णव
नल कर सकता पुल निर्माण
दी राम को सलाह अनुपम !
…………………………………
९४-
सौ योजन का पुल निर्माण
नल सहित वानर दल ने
हर्षित होकर किया ये काम !
……………………………….
९५-
पुल से पहुंची सेना पार
लंका में डंका बजा
दी रावण को थी ललकार !
…………………………….
९६-
अंगद गए रामदूत बन
रावण के दरबार
पर न माना दशानन !
……………………..
९७-
वानर-राक्षस युद्ध घनघोर
मेघनाद के नागपाश में बंधे
राम-लखन वीर-सिरमौर !
………………………
९८-
हनुमान गरुड़ को लाये
राम-लखन भये मुक्त पाश से
सबके मन हर्षाये !
………………………….
९९-
धूम्राक्ष ,वज्रदष्ट्र ,अकम्पन ,प्रहस्त
हनुमत -अंगद सहित दल ने
किया सभी को पस्त !
…………………………….
१००-
क्रोधित रावण कुम्भकर्ण जगाया
कुम्भकर्ण ने रणभूमि में
तांडव बहुत मचाया !
……………………………
१०१-
हुआ भयंकर महायुद्ध
कुम्भकर्ण का राम ने
किया अंत में वध !
………………………….
१०२-
त्रिशिरा ,महोदर ,देवांतक
हनुमत आदि वीरो ने
किया शीघ्र ही उनका वध !
…………………………….
१०३-
लक्ष्मण व् अतिकाय बीच
हुआ भयंकर युद्ध वहां
मारा गया दुष्ट वह नीच !
…………………..
१०४-
तब आया वहां इन्द्रजीत
मायावी ने शक्ति मारी
हुए लखन उस क्षण मूर्छित !
…………………………
१०५-
हनुमत तब संजीवनी लाये
गंध सूंघ संजीवनी की
चेते लक्ष्मण राम हर्षाये !
………………………………..
१०६-
निकुम्बला मंदिर गए लखन
कर यज्ञ विध्वंस
इन्द्रजीत को मारा हर्षित देवगण !
……………………………….
१०७-
राम-रावण युद्ध भयंकर
रावण प्राण हरे
राम रूप जगत के ईश्वर !
………………………………
१०८-
पुष्पक अद्भुत एक विमान
हो आसीन सिया-लखन संग
लौट चले अवध श्री राम !
………………………………….
१०९-
प्रभु-दर्शन कर प्रजा हरषाई
भ्रात -मात से मिल कर
श्रीराम अँखियाँ भर आई !
………………………………….
११०-
राम के गुण अनेकानेक
बने अवध के राजा
हुआ राज्याभिषेक !
…………………………
१११-
युगल छवि सियाराम की !
बसे सदा उर मेरे !
यही प्रार्थना दास की !
[कथा सम्पूर्ण]
जय सियावर रामचंद्र जी की !

शिखा कौशिक ‘नूतन’

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
October 13, 2013

सियावर राम चन्द्र की जय! पवनसुत हनुमान की जय!


topic of the week



latest from jagran