! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

576 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 624493

नूतन रामायण [भाग-दो ]

  • SocialTwist Tell-a-Friend

२५-
पहुंचे भरद्वाज आश्रम पर
सिया लखन के संग
प्रभु करुनाकर !
………………………………..
२६-
चित्रकूट पथ मुनि बताये
सिया लखन के संग राम ने
वाल्मीकि के दर्शन पाए !
…………………………
२७-
लक्षमण एक पर्णशाला बनाई
वास्तु शांति कर
सिया सहित कुटि पधारे रघुराई !
……………………………….
२८ -
इधर सुमंत्र अयोध्या आये
श्री राम का संदेसा
राजा को सुनाएँ !
……………………………..
२९-
पुत्र विरह का शोक
प्राण-त्याग दशरथ
गए परलोक !
…………………………
३० -
गुरु वशिष्ठ ने दूत पठाए
कैकेयी देश से शीघ्र
भरत – शत्रुघ्न बुलाये !
………………………………
३१-
लौट अयोध्या दोनों आये
पितृ-मृत्यु का समाचार
पाकर अकुलाये !
…………………………….
३२-
प्रिय पिता परलोकवास
चौदह बरस राम वनवास
सुनकर भरत करते विलाप !
……………………………..
३३-
लगा वज्र – आघात
भरत क्रोधित भये
धिक्कारी निज मात !
………………………………..
३४-
दैव ने दारुण दुःख दिया
भरत निभाया पुत्र धर्म
अंत्येष्टि संस्कार किया !
………………………
३५-
भरत ह्रदय में कर प्रण
श्रीराम को लौटा लाने का
चित्रकूट को किया गमन !
………………………….
३६-
भरत राम का प्रिय मिलाप
पिता- स्वर्गवास सुनकर
राम-लखन करते विलाप !
………………………….
३७-
प्रभु से करें भरत निवेदन
लौट चलो फिर अवध को
राज्य -ग्रहण करो इसी क्षण !
……………………………
३८-
राम ने धर्म मर्म समझाये
राम की चरण पादुका लेकर
भरत लौटकर अवध को आये !
…………………………….
३९-
भरत बनाकर नंदीग्राम
प्रतिनिधि बनकर करें
श्री राम के काम !
………………………….
४०-
श्री राम गए अत्रि आश्रम
दिए मात अनुसूया ने
सिया को वस्त्राभूषण !
………………………….
४१-
चले वहां से वन -घनघोर
किया विराध का वध
राम-लखन वीर सिरमौर !
……………………………..
४२-
प्रभु पहुंचे शरभंग आश्रम
देवों के दर्शन किये
किया ऋषि ने ब्रह्मलोकगमन !
……………………………..
४३-
हुई सुतीक्ष्ण से राम की भेंट
पहुंचे अगस्त्य आश्रम
ऋषि दिए शास्तास्त्र अनेक !
………………………………
४४-
पंचवटी में करो कुटि निर्माण
अगस्त्य दिए निर्देश
प्रभु किये वहां प्रस्थान !
……………………………
४५-
मिले जटायु पंचवटी के पास
लखन बनाये पर्णकुटी
सिया सहित प्रभु करें निवास !
………………………….
४६-
शूर्पनखा का हुआ आगमन
राम रूप पर रीझकर
करती प्रणय – निवेदन !
…………………………….
४७-
श्री राम ने हँसकर टाला
रूप भयंकर धर दुष्टा ने
सीता को धमका डाला !
……………………..
४८-
लखन खडग ले हाथ
नाक कान उस दुष्टा के
तत्काल दिए थे काट !
…………………………
४९-
लिए कटे नाक व् कान
क्रोधित अपमानित दुष्टा
पहुंची जनस्थान !
…………………………
५०-
दुर्दशा का कारण जान
खर-दूषण ने क्रोध में
पंचवटी को किया प्रस्थान !
……………………………………….
५१-
हुआ घोर संग्राम
खर-दूषण-त्रिसिरा मरे
जय जय जय श्री राम !

[जारी है ....]
जय सिया राम जी की

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

jlsingh के द्वारा
October 12, 2013

खर-दूषण-त्रिसिरा मरे जय जय जय श्री राम हरे! आज की कथा यही तक पढ़ लो इन्तजार आगे का कर लो! बहुत सुन्दर!

October 12, 2013

puanh aabhar shikha ji


topic of the week



latest from jagran