! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

557 Posts

1412 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 619479

बाबा रामदेव समझें विनम्र व् नामर्द में अंतर

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बाबा रामदेव की कोई भाषिक मर्यादा है या नहीं .देश के सम्मानीय व्यक्तियों के लिए ऐसी भाषा का प्रयोग उन्हें सबकी नज़रों में गिरा रहा है -
”रामदेव ने पीएम को कहा ‘नामर्द’, राहुल के बारे में बोले- मैडम का शहजादा कुछ ज्‍यादा ही कूद रहा”

योग गुरु के रूप में प्रसिद्धि पाने वाले बाबा रामदेव ने अपने अनर्गल बयानों से ये साबित कर दिया है कि हर व्यक्ति राजनीति में आने लायक नहीं होता .राजनीति में आपको विपक्षियों के प्रति भी शिष्ट भाषा का प्रयोग करना होता है .पिछले दिनों राहुल जी ने विनम्रता के साथ पार्टी कार्यकर्ताओं को यह सन्देश दिया था कि” भाषा की मर्यादा को बनाये रखा जाये .” राहुल जी स्वयं भी इस बात का ध्यान रखते हैं इसीलिए दागी सांसदों को बचाने के लिए लाये गए अध्यादेश पर दी गयी अपनी साहसपूर्ण प्रतिक्रिया में प्रयोग किये गए अपने शब्दों पर उन्होंने स्वीकार किया- As an afterthought, I agree it was a mistake to use harsh words but I have a … Rahul was at pains to explain that his comment was not aimed at Prime … My relations with the prime minister are based on fundamental respect …-”
बाबा रामदेव को आवश्यकता है राहुल जी से शिष्ट आचरण सीखने की न कि उनकी अनर्गल आलोचना करने की .बाबा रामदेव को डॉ.मनमोहन सिंह जी के प्रति प्रयोग किये अमर्यादित शब्दों के लिए तत्काल माफ़ी माँगनी चाहिए और विनम्र व् नामर्द में अंतर समझना चाहिए .

शिखा कौशिक ‘नूतन



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

October 5, 2013

बाबा ‘ सोरी वे इस शब्द के योग्य नहीं हैं वे इन्सान कहलाने के योग्य नहीं हैं और उन्हें शिक्षा देकर आप भी अपना समय बर्बाद कर रही हैं .

Imam Hussain Quadri के द्वारा
October 5, 2013

जब रामदेव जी ऐसा बोल रहे थे तब कहाँ थे वहां के मौजूद नेता लोग और बुद्धि जीवी जो उनको सुन रहे थे वो इस लिए खामोश रहे के या तो अन्धविश्वास में मगन हैं जैसे आसाराम में कुछ लोग या तो वो उसी रामदेव जैसे हैं बहुत बहुत शुक्रिया आपके लेख का


topic of the week



latest from jagran