! अब लिखो बिना डरे !

शीशे के हम नहीं कि टूट जायेंगे ; फौलाद भी पूछेगा इतना सख्त कौन है .

575 Posts

1449 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 12171 postid : 598580

आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी ,

सिसकियाँ भरते हुए रुक रुक के ये कहने लगी !

इन्सान के दिल और दिमाग न रहे कब्जे में अब ,

मुझको निकाल कर वहां हैवानियत रहने लगी !!

**************************************

भूखी प्यासी मैं भटकती चीथड़ों में रात दिन ,

पास बैठाते मुझे आने लगी है सबको घिन्न ,

मैं तड़पती और कराहती खुद पे शर्माने लगी !

आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!!

********************************

हैवानियत के ठाट हैं पीती शराफत का है खून ,
वहशी इसको पूजते चारों दिशाओं में है धूम ,

बढ़ता रुतबा देखकर हैवानियत इतराने लगी !!

आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!!

*******************************

इंसानियत बोली थी ये क्रोध में जलते हुए ,
डूबकर मर जाऊं या फंदा खुद कस लूँ गले ?

दरिंदगी के आगे बहकी नज़र आने लगी !!
आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!!

********************************

पोंछकर आंसू मैं उसके ये लगी फिर पूछने ,
तुम ही बतलाओ करूं क्या ?बात कैसे फिर बने ?
इंसानियत खोयी हुई हिम्मत को जुटाने लगी !

आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!!

*******************************

है अगर दिल में जगह इंसानियत को दें पनाह ,
ये रहेगी दिल में तो हो सकता न कोई गुनाह ,
इंसानियत की बात ये ‘नूतन’ को लुभाने लगी !
आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!!

शिखा कौशिक ‘नूतन’



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Pradeep Kesarwani के द्वारा
September 11, 2013

भूखी प्यासी मैं भटकती चीथड़ों में रात दिन , पास बैठाते मुझे आने लगी है सबको घिन्न , मैं तड़पती और कराहती खुद पे शर्माने लगी ! आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!! हक़ीक़त बयां करती,,,!!

September 11, 2013

इंसानियत बोली थी ये क्रोध में जलते हुए , डूबकर मर जाऊं या फंदा खुद कस लूँ गले ? दरिंदगी के आगे बहकी नज़र आने लगी !! आज मुझसे मिल गले इंसानियत रोने लगी!! बहुत मार्मिक अभिव्यक्ति .


topic of the week



latest from jagran